कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

अक्टूबर 14, 2006

जब कभी तेरा नाम लेते है


जब कभी तेरा नाम लेते है
दिल से हम इन्तिक़ाम लेते है

(इन्तिक़ाम : revenge)

मेरे बरबादियों के अफ़साने
मेरे यारों के नाम लेते है

(अफ़साने : tales, stories)

बस यही एक जुर्म है अपना
हम मोहब्बत से काम लेते है

(जुर्म : crime)

हर कदम पर गिरे मगर सीखा
कैसे गिरतों को थाम लेते है

हम भटककर जुनूँ की राहों मे
अक़्ल से इंतिकाम लेते है

(जुनूँ : frenzy, madness; अक़्ल : mind, intellect)

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: