कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 20, 2006

बेनाम सा ये दर्द


बेनाम सा ये दर्द ठहर क्यों नही जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता,

सब कुछ तो है क्या ढूंढती हैं ये निगाहें,
क्या बात है मैं वक्त पे घर क्यों नहीं जाता,

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहां मे,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता,

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यों नहीं जाता,

वो नाम जो बरसो से ना चेहरा ना बदन है,
वो ख्वाब अगर है तो बिखर क्यों नहीं जाता

Advertisements

5 टिप्पणियाँ »

  1. I LOVE JAGJEET SINGH

    टिप्पणी द्वारा shobha — जनवरी 10, 2007 @ 4:00 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  2. i want this song plz send it 2 my email vishsanjiv@yahoo.com

    टिप्पणी द्वारा sanjeev — मार्च 9, 2007 @ 4:20 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  3. i want this song plz send it 2 my email vishsanjiv@yahoo.com
    shobha ji send it

    टिप्पणी द्वारा sanjeev — मार्च 9, 2007 @ 4:20 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  4. Dear Sir,

    Can u plz send this in MP3 format to may mail ID.
    M_JEENA@yahoo.com

    Thanks in advance

    टिप्पणी द्वारा Jeena — जुलाई 14, 2007 @ 9:04 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  5. great ‘

    टिप्पणी द्वारा Deepak Bhardwaj — फ़रवरी 20, 2008 @ 10:02 अपराह्न | प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: