कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

अक्टूबर 4, 2007

ला पिला दे शराब ऐ साकी


ढल गया आफताब ऐ साकी,
ला पिला दे शराब ऐ साकी,

या सुराही लगा मेरे मुँह से,
या उलट दे नकाब ऐ साकी,

मैकदा छोड़ कर कहाँ जाऊं,
है ज़माना ख़राब ऐ साकी,

जाम भर दे गुनाहगारों के,
ये भी है इक सवाब ऐ साकी,

आज पीने दे और पीने दे,
कल करेंगे हिसाब ऐ साकी,

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: