कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

अक्टूबर 17, 2007

जीते रहने की सज़ा दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी


जीते रहने की सज़ा दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी,
अब तो मरने की दुआ दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी,

मैं तो अब उकता गया हूँ क्या यही है कायेनात,
बस ये आइना हटा दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी,

धुंडने निकला था तुझको और ख़ुद को खो दिया,
तू ही अब मेरा पता दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी,

या मुझे अहसास की इस कैद से कर दे रिहा,
वर्ना दीवाना बना दे जिन्दगी ऐ जिन्दगी,

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .

%d bloggers like this: