कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 1, 2007

तुमने दिल की बात कह दी


तुमने दिल की बात कह दी, आज ये अच्छा हुआ,
हम तुम्हें अपना समझते थे, बढा धोखा हुआ,

जब भी हमने कुछ कहा, उसका असर उल्टा हुआ,
आप शायद भूलते है, बारहा ऎसा हुआ,

आपकी आंखों में ये आंसू कहाँ से आ गये,
हम तो दिवाने है लेकिन आप को ये क्या हुआ,

अब किसी से क्या कहें इकबाल अपनी दास्तां,
बस खुदा का शुक्र है जो भी हुआ अच्छा हुआ,

Lyrics: Iqbaal Azim
Singer: Jagjit Singh

Advertisements

3 टिप्पणियाँ »

  1. nice one

    टिप्पणी द्वारा mehhekk — दिसम्बर 17, 2007 @ 12:23 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  2. wen u get to read wat u go thru in ur life u feel there r many companions with u in ur loneliness as well….
    if sme1 undrstnds wat imeant to say in these lines in relation to the gazal…

    टिप्पणी द्वारा Gudiya — जनवरी 16, 2008 @ 10:41 पूर्वाह्न | प्रतिक्रिया

  3. Ultimate lines

    टिप्पणी द्वारा Anang — अक्टूबर 16, 2012 @ 9:37 पूर्वाह्न | प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .

%d bloggers like this: