कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 12, 2007

अब मेरे पास तुम आई हो तो क्या आई हो?


अब मेरे पास तुम आई हो तो क्या आई हो?

मैने माना के तुम इक पैकर-ए-रानाई हो
चमन-ए-दहर में रूह-ए-चमन आराई हो
तलत-ए-मेहर हो फ़िरदौस की बरनाई हो
बिन्त-ए-महताब हो गर्दूं से उतर आई हो

मुझसे मिलने में अब अंदेशा-ए-रुसवाई है
मैने खुद अपने किये की ये सज़ा पाई है

ख़ाक में आह मिलाई है जवानी मैने
शोलाज़ारों में जलाई है जवानी मैने
शहर-ए-ख़ूबां में गंवाई है जवानी मैने
ख़्वाबगाहों में गंवाई है जवानी मैने

हुस्न ने जब भी इनायत की नज़र ड़ाली है
मेरे पैमान-ए-मोहब्बत ने सिपर ड़ाली है

उन दिनों मुझ पे क़यामत का जुनूं तारी था
सर पे सरशरी-ओ-इशरत का जुनूं तारी था
माहपारों से मोहब्बत का जुनूं तारी था
शहरयारों से रक़ाबत का जुनूं तारी था

एक बिस्तर-ए-मखमल-ओ-संजाब थी दुनिया मेरी
एक रंगीन-ओ-हसीं ख्वाब थी दुनिया मेरी

क्या सुनोगी मेरी मजरूह जवानी की पुकार
मेरी फ़रियाद-ए-जिगरदोज़ मेरा नाला-ए-ज़ार
शिद्दत-ए-कर्ब में ड़ूबी हुई मेरी गुफ़्तार
मै के खुद अपने मज़ाक़-ए-तरब आगीं का शिकार

वो गुदाज़-ए-दिल-ए-मरहूम कहां से लाऊँ
अब मै वो जज़्बा-ए-मासूम कहां से लाऊँ

Unsung lines in Bold Italic

Lyrics: Majaz
Singer: Jagjit Singh

Advertisements

4 टिप्पणियाँ »

  1. Dear,
    Since 1998 I was looking for proper wording of all these ghazals from Kahekasha!!
    Please be in touch. You are excellent man , great effort. Peo

    टिप्पणी द्वारा Sameer — दिसम्बर 20, 2007 @ 6:48 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  2. WHO SOEVER HAS TAKEN THE PAINS TO
    GATHER CORRECT WORDS OF THE GHAZALS
    HAS REALLY DONE REMARKEABLE WORK

    AND I APPRECIATE IT AND DO EXPECT THE SAME KIND OF WORK
    THANKS BUDDY

    KEEP IT UP

    टिप्पणी द्वारा ROBIN SHARMA — जनवरी 10, 2008 @ 3:11 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  3. REALLY GR8 WORK DONE HERE FOR THE PERSON LYK ME… I WAS SEARCHING 4 THE LYRICS OF KEHKASHAAN 4 A LONG SO THAT I MAY BE ABLE TO GET PROPER MEANING OF THE NAZM….2 DAY I GOT DAT BECOZ OF U MAN…..THANX A LOT

    टिप्पणी द्वारा dipti — जुलाई 2, 2010 @ 4:11 अपराह्न | प्रतिक्रिया

  4. THANX A LOT AGAIN

    टिप्पणी द्वारा dipti — जुलाई 2, 2010 @ 4:13 अपराह्न | प्रतिक्रिया


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .

%d bloggers like this: