कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 6, 2007

नज़र वो है के


नज़र वो है के जो कौन-ओ-मकां के पार हो जाये,
मगर जब रू-ए-ताबां पर पड़े बेकार हो जाये,

नज़र उस हुस्न पर ठहरे तो आख़िर किस तरह ठहरे,
कभी जो फूल बन जाये कभी रुख़सार हो जाये,

चला जाता हूं हंसता खेलता मौज-ए-हवादिस से,
अगर आसानियां हों ज़िंदगी दुशवार हो जाये,

Lyrics: Asghar Gondavi
Singer: Jagjit Singh

WordPress.com पर ब्लॉग.