कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 6, 2007

किस को आती है मसीहाई


किस को आती है मसीहाई किसे आवाज़ दूं,
बोल ऐ ख़ूंख़ार तनहाई किसे आवाज़ दूं,

चुप रहूं तो हर नफ़स ड़सता है नागन की तरह,
आह भरने में है रुसवाई किसे आवाज़ दूं,

उफ़ ख़ामोशी की ये आहें दिल को बरमाती हुईं,
उफ़ ये सन्नाटे की शहनाई किसे आवाज़ दूं,

Lyrics: Josh Malihabadi
Singer: Jagjit Singh

WordPress.com पर ब्लॉग.