कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

दिसम्बर 1, 2007

मैं नशे मे हुँ


ठुकराओ अब के प्यार करो, मैं नशे मे हुँ,
जो चाहे मेरे यार करो, मैं नशे मे हुँ,

अभी दिला रहा हुँ यकीन-ए-वफ़ा मगर,
मेरा ना एतबार करो, मैं नशे मे हुँ,

गिरने दो तुम मुझे मेरा सागर सम्भाल लो,
इतना तो मेरे यार करो, मैं नशे मे हुँ,

मुझको कदम कदम पे भटकने दो आज दोस्त,
तुम अपना करोबार करो, मैं नशे मे हुँ,

फ़िर बेखुदी में हद से गुजर ने लगा हुँ मैं,
इतना ना मुझ से प्यार करो ,मैं नशे मे हुँ,

Lyrics: Shahid Kabir
Singer: Jagjit Singh

WordPress.com पर ब्लॉग.