कुछ पल जगजीत सिंह के नाम

नवम्बर 19, 2007

हुस्न वालो का ऐतराम करो


हुस्न वालो का ऐतराम करो,
कुछ तो दुनिया मे नेक काम करो,
शेख जी आये है बव्जू होकर,
अब तो पीने का इन्तेजाम करो,
अभी बरसेंगे हर तरफ़ जलवे,
तुम निगाहों का एह्त्माम करो,
लोग डरने लगे गुनाहों से,
बारिश-ऐ-रहमत-ऐ-तमाम करो,

अक्टूबर 27, 2007

यूँ तो जाते हुए मैंने उसे रोका भी नही


यूँ तो जाते हुए मैंने उसे रोका भी नही,
प्यार उस से न रहा हो मुझे, ऐसा भी नही,

मुझको मंजिल की कोई फ़िक्र नही है य रब,
पर भटकता ही रहू जिस पे, वो रास्ता भी नही,

मुन्तजिर मे भी किसी शाम नही था उसका,
और वादे पे कभी शख्स वो आया भी नही,

जिसकी आहट पे निकल पड़ता था कल सीने से,
देख कर आज उसे दिल मेरा धड़का भी नही,

जवाब जिनका नही वो सवाल होते है


जवाब जिनका नही वो सवाल होते है,
जो देखने में नही कुछ, कमाल होते है,

तराश्ता हूँ तुझे जिन में अपने लफ्जों से,
बहुत हसीन मेरे वो ख्याल होते है,

हसीन होती है जितनी बला की दो आँखें,
उसी बला के उन आंखों में जाल होते हैं,

वह गुनगुनाते हुए, यूँही, जो उठाते है,
क़दम कहाँ, वो क़यामत की चाल होते हैं,

अक्टूबर 25, 2007

बोलो राम जय जय राम


बोलो राम जय जय राम,
मुनिमन रंजन भव भये भंजन,
असुर निकंदन सीता राम,
पतित उद्धारण जग जन तारण,
नित्ये निरंजन सीता राम,
दशरत नंदन सुर मुनि वंदन,
परेय्पप वंदन सीता राम,
जग सुख कारण जग जन पालन,
संतन जीवन सीता राम,
सत्ये सनातन मंगल कारन,
सगुण निरंजन सीता राम,
राम ही पावन अति मन भावन,
नर नारायण सीता राम,

जय रघुनन्दन जय सिया राम


जय रघुनन्दन जय सिया राम,
भज मन प्यारे जय सिया राम,
आदि राम अनंत है राम,
सत चित और अनंत है राम,
हनुमान के स्वामी राम,
दीनन के दुःख हारी राम,
मर्यादा पुर्शोतम राम,
पुरान ब्रम्ह सनातन राम,
तुलसी सुत तुलसी के राम,
करुना कर भक्तो के राम,
जय सिया राम जय जय सिया राम,

जन्म सफल होगा बन्दे


बोलो राम जय जय राम,
जन्म सफल होगा बन्दे,
मन में राम बसा ले,
हे राम नाम के मोती को,
सांसो की माला बना ले,
राम पतित पवन करुनाकर,
और सदा सुख दाता,
सरस सुहावन अति मनभावन,
राम से प्रीत लगा ले,
मन में राम बसा ले,
मोह माया है झूटा बन्धन,
त्याग उसे तू प्राणी,
राम नाम की ज्योत जला कर,
अपना भाग जगा ले,
मन में राम बसा ले,
राम भजन में डूब के अपनी,
निर्मल कर ले काया,
राम नाम से प्रीत लगा के,
जीवन पर लगा ले,

सितम्बर 27, 2007

मुझसे बिछड़ के खुश रहते हो


मुझसे बिछड़ के खुश रहते हो,
मेरी तरह तुम भी झूठे हो,

इक टहनी पर चाँद टिका था,
मैंने ये समझा तुम बैठे हो,

उजले उजले फूल खिले थे,
बिल्कुल जैसे तुम हँसते हो,

मुझ को शाम बता देती है,
तुम कैसे कपड़े पहने हो,

तुम तन्हा दुनिया से लडोगे,
बच्चों सी बातें करते हो,

Lyrics: Dr. Bashir Badr
Singer: Jagjit Singh

तेरे आने की जब ख़बर महके


तेरे आने की जब ख़बर महके,
तेरे खुश्बू से सारा घर महके,

शाम महके तेरे तसव्वुर से,
शाम के बाद फिर सहर महके,

रात भर सोचता रहा तुझ को,
ज़हन-ओ-दिल मेरे रात भर महके,

याद आए तो दिल मुनव्वर हो,
दीद हो जाए तो नज़र महके,

वो घड़ी दो घड़ी जहाँ बैठे,
वो ज़मीं महके वो शजर महके,

Lyrics: Dr. Nawaz Dewbandi
Singer: Jagjit Singh

मई 19, 2007

सुन ली जो खुदा ने वो दुआ तुम तो नहीं हो


सुन ली जो खुदा ने वो दुआ तुम तो नहीं हो ।
दरवाजे पे दस्तक की सदा तुम तो नहीं हो ।
महसूस किया तुम को तो गीली हुई पलकें ,
बदलें हुए मौसम की अदा तुम तो नहीं हो ।
अन्जानी सी राहों में नहीं कोई भी मेरा ,
किस ने मुझे युँ अपना कहा तुम तो नहीं हो ।
दुनिया को बहरहाल गिले शिकवे रहेगे ,
दुनिया की तरह मुझ से खफ़ा तुम तो नहीं हो ।

मुझे तुम से मोहब्बत हो गई हैं


मुझे तुम से मोहब्बत हो गई हैं ।
ये दुनिया खुबसुरत हो गई हैं ।
खुदा से रोज तुम को मांगते है ,
मेरी चाहत इबादत हो गई है ।
वो चेहरा चांद है , आंखे सितारे ,
ज़मी फुलों की ज़न्नत हो गई है ।
बहुत दिन से तुम्हें देखा नहीं है ,
चले भी आओ मुद्दत हो गई है ।

« पिछला पृष्ठअगला पृष्ठ »

WordPress.com पर ब्लॉग.